Wednesday, December 23, 2015

उत्तर-पूर्व दिशा को न करें अनदेखा

Image result for north east corner as per vastu
उत्तर पूर्व दिशा में कोई भी नकारात्मक वस्तु जैसे जूते, चप्पल या प्रयोग में न आने वाला सामान न रखें। इससे उत्तर पूर्व दिशा में दोष उत्पन्न हो जाता है।
इस क्षेत्र में साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें। यहीं से कॉस्मिक उर्जा का निर्माण होता है जिससे व्यक्ति स्वस्थ रहता है। ध्यान रहे कि उत्तर पूर्व दिशा के खुला होने के पीछे एक वैज्ञानिक कारण भी है कि इसमें कॉस्मिक किरणों का उदय एवं प्रवाह बेहतर ढंग से संभव हो पाता है।

यदि आपके निवास का कोई कोना कटा हुआ है या बढ़ा हुआ है तो कॉस्मिक किरणों का प्रवाह ठीक से नहीं हो पाता है जिससे इस क्षेत्र के अनुसार जो भी ग्रह होगा उसके प्रभाव से व्यक्ति को शारीरिक रोग हो सकता है।

Image result for north east corner as per vastuउत्तर पूर्व भूमि तत्व की दिशा है जिन व्यक्तियों की जन्म तिथि में 2, 5 एवं 8 अंक नहीं होता है ऐसे व्यक्ति हड्डियों के रोग से ग्रसित हो सकते हैं ऐसे व्यक्तियों को उत्तर पूर्व एवं दक्षिण पश्चिम जोन में पीला रंग करवाना चाहिए।
किसी की कुंडली में यदि गुरु शुभ प्रभाव में नहीं है और आपके उत्तर-पूर्व जोन में वास्तु दोष है तो ऐसे व्यक्तियों को पाचन तंत्र संबंधी, गॉल ब्लैडर, रक्त चाप, पीलिया आदि रोग होने की आशंका होती है।


Image result for north east corner as per vastuकई दंपतियों को विवाह के 4-5 साल के उपरांत भी संतान प्राप्ति नहीं होती है जबकि मेडिकल जांच में सबकुछ सामान्य आता है, ऐसे में उत्तर-पूर्व दिशा में वास्तु दोष एक कारण हो सकता है। उत्तर-पूर्व दिशा के प्रभाव से व्यक्ति को संतान सुख प्राप्त होता है।

गुरू जो कि संतान का भी कारक है इस दिशा का स्वामी है और उत्तर-पूर्व दिशा में हानि होने पर गुरु रुष्ट रहते हैं तो जीवन में कष्ट बने रहते हैं।

\Image result for vastu picture for factory                                                                                                                                                               



गर्व से कहो हम हैं इंडियन