Wednesday, November 25, 2015

वास्तुशास्‍त्र के अनुसार इन कारणों से धन की बरकत नहीं होती

Image result for dustbin





घर के उत्तर पूर्व यानी ईशान कोण में डस्टबीन या कचड़ा नहीं रखें। यहां गंदगी होने से धन का नाश होता रहता है।



Image result for tap water

नल से पानी का टपकते रहना वास्तुशास्त्र में आर्थिक नुकसान का बड़ा कारण माना गया है, जिसे बहुत से लोग अनदेखा कर जाते हैं। वास्तु के नियम के अनुसार नल से पानी का टपकते रहना धीरे-धीरे धन के खर्च होने का संकेत होता है। इससे बरकत नहीं होती।





पश्च‌िम द‌िशा में रसोई घर होने पर धन का आगमन अच्छा रहता है लेक‌िन बरकत नहीं रहती है यानी धन जैसे आता है वैसे खर्च भी हो जाता है।

घर की ढ़लान अगर उत्तर पूर्व में ऊंची है तो धन के आगमन में रुकावट आती रहती है और आय की अपेक्षा खर्च ज्यादा होता है।


धन में वृद्धि और बचत के लिए तिजोड़ी अथवा आलमारी जिसमें धन रखते हों उसे दक्षिण की दिवार से सटा कर इस प्रकार रखें कि, इसका मुंह उत्तर दिशा की ओर रहे। पूर्व की दिशा की ओर आलमारी का मुंह होने पर भी धन में वृद्धि होती है लेकिन उत्तर दिशा उत्तम मानी गयी है। दक्ष‌िण द‌‌िशा की ओर तिजोड़ी का मुंह होने पर धन नहीं ठहरता है।

घर के दक्ष‌िण पश्च‌िम द‌िशा में शौचालय या पानी की टंकी होने पर धन नहीं ठहरता है।

टूटा हुआ बेड और पलंग घर में नहीं रखना चाहिए इससे आर्थिक लाभ में कमी आती है और खर्च बढ़ता है। घर की छत पर या सीढ़ी के नीचे कबाड़ जमा करके रखने से भी धन का नुकसान होता है।



                             Image result for vastu picture for factory